Economics

हैरॉड-डोमर तथा कल्डार मॉडल की विशेषताएं बताइये।

हैरॉड-डोमर तथा कल्डार मॉडल की विशेषताएं बताइये।
Written by Pradeep Patel

दोस्तों आप सभी के लिए आज के इस आर्टिकल के माध्यम से जो जानकारी शेयर कर रहे हैं वह आप सभी के B.Ed. / BTC/ D.EL.ED / M.Ed. और कई होने वाली परीक्षा में पूछे जाते हैं। इस पोस्ट में आप को हम हैरॉड-डोमर तथा कल्डार मॉडल की विशेषताएं बताने जा रहे हैं ।

निरपेक्ष आय परिकल्पना Absolute Income Hypothesis

हैरॉड-डोमर मॉडल की विशेषताएं निम्नलिखित है:

  1. अर्थव्यवस्था में प्रारम्भिक पूर्ण रोजगार साम्य आय स्तर है।
  2. आर्थिक क्रियाओं में सरकारी हस्तक्षेप बिल्कुल भी नहीं है।
  3. यह मॉडल बन्द अर्थव्यवस्था में कार्य करता है जिससे विदेशी व्यापार नहीं होता।
  4. निवेश और उत्पादन क्षमता सृजन के बीच समायोजनों में कोई समयान्तराल नहीं होता।
  5. सीमान्त उपभोग प्रवृत्ति तथा औसत उपभोग प्रवृत्ति आपस में बराबर है।
  6. सीमान्त बचत प्रवृत्ति स्थिर रहती है।
  7. पूँजी गुणांक ( कल्पित आय में पूँजी स्टॉक का अनुपात) निश्चित है।

गरीबी क्या है? गरीबी के कारण What is poverty? Reasons of poverty

काल्डार मॉडल की विशेषताएं

काल्डर का मॉडल निम्नलिखित मान्यताओं पर आधारित है-

  1. आय के दिये हुए स्तर पर पूर्ण रोजगार की स्थिति विद्यमान है।
  2. राष्ट्रीय आय के उत्पाद में मजदूरी (W) तथा लाभ (P) शामिल है W में शारीरिक श्रम तथा मजदूर दोनों ही शामिल हैं, जबकि P में सम्पत्ति स्वामियों तथा उद्यमियों की आय शामिल है।
  3. श्रमिकों की सीमान्त उपभोग प्रवृत्ति, पूँजी-पूँजीपतियों की सीमान्त उपभोग प्रवृत्ति से अधिक होती है।
  4. पूँजीपतियों की सीमान्त बचत प्रवृत्ति श्रमिकों की बचत प्रवृत्ति से अधिक होती है।
  5. निवेश-उत्पाद अनुपात I/Y एक स्वतन्त्र चर है।
  6. अपूर्ण प्रतियोगिता तथा एकाधिकारी शक्तियों विद्यमान है।

About the author

Pradeep Patel

Leave a Comment